Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi

यह प्रमुख कारण है कि क्यों माथे पर चंदन लगाया जाता है?

0

[ad_1]

Loading...

यह प्रमुख कारण है कि क्यो माथे पर चंदन लगाया जाता है?

कई लोगों ने सिर पर चंदन लगा देखा होगा। खासकर दक्षिण भारत के लोग पूजा के दौरान चंदन पहनते हैं। यहां तक ​​कि विद्वान लोग भी अपने सिर पर चंदन लगाते थे। इसका कारण केवल सुगंध नहीं है। लेकिन कई औषधीय गुण हैं। केवल सिर पर चंदन लगाना ही आध्यात्मिक महत्व नहीं है। इसे लगाने से शरीर में कई तरह की बीमारियों से राहत मिलती है।

7वीं 8वीं और 10वीं पास के लिए निकली है बंपर भर्ती 10000 पदों पर होगी भर्ती

आप भी हो गए हैं बेरोजगारी से परेशान ? एक टेस्ट दें और पा लें नौकरी..

चंदन ठंडा है। इसे लगाने से शरीर ठंडा होता है। यही कारण है कि चंदन को सिर पर लगाने से सिरदर्द से राहत मिलती है। क्योंकि यह सिरदर्द के कारण गर्म नसों को शांत करने में मदद करता है। चप्पल विशेष रूप से गर्मी के सिरदर्द से छुटकारा दिलाता है।

यदि आपको काम या अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है, तो अपने सिर पर चंदन लगाएं। इसे लगाने से दिमाग ठंडा रहता है। ताकि एकाग्रता में सुधार हो। यही वजह है कि प्राचीन काल में, गुरुकुल गुरु और शिष्य दोनों के सिर पर चंदन लगाते थे।

जिसका कार्य सिर को ठंडा रखने के लिए बुखार में ठंडे पानी की पट्टी लगाना है। इस चप्पल से भी राहत मिली है। सिर पर चंदन लगाने से सिर के साथ-साथ शरीर का तापमान भी सामान्य होने लगता है और बुखार से भी राहत मिलती है। चंदन को बुखार से राहत के लिए सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है।

अत्यधिक सोच से मन में थकान पैदा होती है। ताकि मानसिक थकान बनी रहे। इस कारण से, अनिद्रा धीरे-धीरे शिकायत करने लगती है। आयुर्वेद में चंदन का लेप सिर पर लगाने से थकान और अनिद्रा की समस्या से छुटकारा मिलता है।

चंदन का पेस्ट त्वचा को धब्बा से बचाने में उपयोगी है। सदियों से रानियां खुद को सुंदर बनाने के लिए चंदन लगा रही हैं। इसे लगाने से न केवल ऑयली त्वचा से छुटकारा मिलता है। लेकिन मुँहासे और मुँहासे भी कम हो जाते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.