Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi

भारतीय मूल की 11 साल की लड़की ने ब्रिटेन में कर दिया कमाल, जानें उपलब्धि

0
नई दिल्ली: भारतीय मूल की 11 साल की लड़की ने हाई आईक्यू वाले ब्रिटिश मेनसा टेस्ट में टॉप स्थान हासिल किया है. जिया वदुचा नाम की इस लड़की को मेनसा सदस्यता क्लब में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है.

जिया वदुचा ने कैटल 3 बी पेपर में सबसे अधिक 162 अंक प्राप्त किए हैं.

जिया की मां बिजल ने कहा, ‘माता-पिता होने के नाते हमें जिया की उपलब्धि पर नाज है. जिया छोटी उम्र से ही विलक्षण प्रतिभा की धनी थी लेकिन 162 अंक प्राप्त करके उसने हमें पूरी तरह से हैरान कर दिया है.’

जिया की मां पेशे से अकाउंटेंट हैं और अपने पति जिग्नेश के साथ मिलकर शैनेल सॉल्यूशंस लिमिटेड नाम से एक सॉफ्टवेयर कंसल्टेंसी चलाती हैं.

उन्होंने कहा, ‘अब हमारे लिए परीक्षा की घड़ी है क्योंकि जिया को उसकी क्षमता के हिसाब से मौक़ा दिलाना ही असल चुनौती है.’

जिया का बाकी परिवार मुंबई में रहता है. परिणाम घोषित होने के बाद से वह एक मिनी सेलिब्रेटी बन गई है, देशभर से दोस्त और रिश्तेदार जिया को बधाई दे रहे हैं.

उसके कई सहपाठी भी रिज़ल्ट आने के बाद से उससे ऑटोग्राफ मांग रहे हैं.

बिजल ने आगे कहा, ‘अकाउंटेंट, आईटी सलाहकार और परिवार के व्यवसाय से जुड़े लोगों से घिरे होने के कारण, जिया उन तमामा पेशे से बचना चाहती है जो उसे एक कमरे में बांध दे. वो अपनी शैक्षणिक प्रतिभा का उपयोग कला और संगीत के क्षेत्र में करना चाहती है जिसमें उसकी दिलचस्पी है.’

मेनसा की सदस्यता उन सभी लोगों के लिए खुली है जो शीर्ष दो प्रतिशत में अपना आईक्यू दिखा सकते हैं.

ब्रिटिश मेनसा के मुख्य कार्यकारी जॉन स्टेवेनेज ने कहा, ‘जिया को अच्छा स्कोर करने के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं. मुझे उम्मीद है कि वह मेनसा की सदस्यता का इस्तेमाल नए लोगों से मिलने और सीखने के लिए करेगीं.’

इस संस्थान ने हालांकि अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग जैसे जीनियस से तुलना को गलत बताया क्योंकि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि उन्होंने इस तरह का कोई टेस्ट दिया था. टेस्ट में 162 नंबर लाना बहुत मुश्किल है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.