Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi

जानिए, बबूल के पत्तों के अनोखे फायदे

0

बबूल जिसे कीकर के नाम से भी जाना जाता है। यह एक कांटेदार पेड़ है जिसकी पत्‍ती, टहनी, गोंद और छाल सभी औषधीय रूप में उपयोग किया जाता है। हमारे भारत में दो तरह के बबूल पाए जाते हैं। एक देशी बबूल दूसरा मासकीट बबूल है। बबूल की लकड़ी बहुत मजबूत होती है। इससे बने फर्नीचर बहुत मजबूत होते हैं और इसमें घुन भी नहीं लगता है। बबूल का गोंद, छाल, पत्ती और जड़ का सेवन कफ, खांसी, पेट दर्द, दांतों की सड़न और वीर्य की कमी को दूर कर उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करता है। आज हम भी आपको बबूल की पत्ती, जड़ या छाल के सेवन से होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए बबूल के फायदे जानते हैं।

बबूल के फायदे या कीकर के फायदे

1. मजबूत दांत

बबूल के पेड़ की मुलायम टहनियों का दातून करें। इससे दांत स्वस्थ्य और मज़बूत बनेंगे। इसके अलावा 70 ग्राम बबूल का कोयला, 30 ग्राम भुनी हुई फिटकिरी और 15 ग्राम काला नमक मिक्‍स कर के मंजन बनाएं। रोज़ाना इस मिश्रण से मंजन कर दांतों को मज़बूत बनाएं। जानिए दांतों से कैविटी कैसे हटाये।

2. दांत के कीड़े

रोज़ाना बबूल की छाल से काढ़ा बनाकर 3 से 4 बार कुल्ला करें। इससे मसूड़ों की सड़न और खून आना बंद हो जाता है और दांत के कीड़े भी नष्ट हो जाते हैं।

3. मुंह के छाले

बबूल की छाल सुखाकर पीसकर बारीक़ चूर्ण बना लें। फिर आधा गिलास पानी में 1 चम्मच चूर्ण डालकर उबाल लें। अब इस पानी से दिन में 2-3 बार कुल्ला करे। इससे मुंह के छाले दूर हो जाते हैं।

4. खांसी

बबूल की मुलायम पत्‍तियों को पानी में उबाल कर रख लें। फिर हल्के गुनगुने पानी को दिन में 2 से 3 बार पिएं। इससे खांसी ठीक हो जाएगी।

5. चोट लगने, घाव होने या जलने पर

बबूल की ताज़ी पत्‍तियों को पीस कर घाव या चोट पर लगाए या जले हुए भाग पर लगाएं। इस उपचार से घाव या चोट जल्दी भर जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.